दो लाख बच्चों की 84 दिन की लगेगी अलग से कक्षा

जिले के 1600 प्राइमरी-मिडिल स्कूल के 2 लाख बच्चों की 84 दिन की अलग से कक्षा लगेगी । कक्षा 5वीं, 8वीं के बच्चों के दूसरी और तीसरी कक्षा के भी किताब नहीं पढ़ पाने और इस कक्षा के अनुरूप भी विषय में दक्ष नहीं होने का मामला सामने आने के बाद जिले में एक्सिलेटेड लर्निंग कैम्पेन के तहत यह शुरुआत की गई है । इसे लेकर शनिवार को समाहरणालय में आयोजित कार्यशाला में डीएम प्रणव कुमार, डीडीसी, डीईओ अब्दुस सलाम अंसारी, डीपीओ सर्व शिक्षा अभियान अमरेन्द्र पांडेय ने जिले के चयनित मास्टर ट्रेनर को ट्रेनिंग दी और गाइडलाइन जारी किया ।
.
डीएम ने कहा कि इसके तहत सबसे पहले जिले के कक्षा और 8वीं के बच्चों की छठ के बाद परीक्षा होगी जिसके आधार पर बच्चों को चिन्हित किया जाना है । पिछले नेशनल अचीवमेंट सर्वे में भी यह खुलासा हुआ था । इस बार के एचिवमेंट सर्वे को लेकर मुजफ्फरपुर समेत सूबे में बिहार शिक्षा परियोजना की ओर से एक सर्वे कराया गया था । इस सर्वे रिपोर्ट को लेकर हिन्दुस्तान ने खबर भी छापी थी । डीईओ अब्दुस सलाम अंसारी और डीपीओ सर्व शिक्षा अभियान अमरेन्द्र पांडेय ने बताया कि रिजल्ट के आधार पर दो ग्रेड में बच्चे बांटे जाएंगे । बेसिक लिटरेसी और न्यूमरेसी से भी लगभग 2 लाख बच्चे पीछे हैं ।

336x280 MilesWeb

कक्षा सापेक्ष दक्ष बनाने को नीति आयोग, शिक्षा विभाग ने बनाया इन बच्चों के लिए 42 दिन का मॉड्यल बनाया है । इस 42 दिन के मॉड्यूल पर 84 दिन टारगेटेड बच्चों की अलग से कक्षा लगेगी । इसके तहत 3200 शिक्षकों को ट्रेंड किया जा रहा है । चयनित 64 मास्टर ट्रेनर को निर्देश दिया गया है कि वे हर स्कूल के दो-दो शिक्षक को ट्रेंड करें । मॉड्यूल पिरामिल फांउडेशन की ओर से बनाया गया है । फाउडेंशन के अकरम ने बताया कि इसमें भाषा और गणित को लेकर अलग-अलग दिन का सिलेबस और इसे कैसे पढ़ाना है, इसे तैयार कर रखा गया है ।
.हर कक्षा के बी ग्रुप के बच्चों का बनेगा अलग समूह

यह भी पढ़े   प्रसार भारती दूरदर्शन का अस्तित्व ख़त्म ,31 दिसंबर को बंद हो जायेगा बिहार के 15 जिलों के दूरदर्शन केंद्र

छठ के बाद मूल्यांकन के आधार पर 3, 5, 6, 8वीं के बच्चों के बी ग्रुप का अलग समूह बनेगा । यह वैसे बच्चे होंगे जिन्हें कक्षा सापेक्ष दक्षता नहीं है । मॉडयूल के तहत हर एक सप्ताह पर बच्चों का मूल्यांकन होगा और जैसे-जैसे बच्चे दक्ष बनते जाएंगे, उनका ग्रुप अलग होता जाएगा । कुल 84 दिन की कक्षा के बाद 90 दिन पर एक और मूल्यांकन होगा और देखा जाएगा कि इसमें कितने बच्चे कक्षा के अनुरूप दक्ष बन पाए
.

ऐसे ही ताज़ा खबर पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज एवं ट्विटर पर फ़ॉलो जरूर करें आप हमारे व्हाट्सप्प ग्रुप भी ज्वाइन कर सकते है

Share on: