Breaking News

BPSC 67th Exam के पेपर लीक मामले में EOU ने की बड़ी कार्रवाई , हिरासत में मजिस्ट्रेट के तौर पर तैनात बड़हरा बीडीओ, पढ़ें अभी के Big अपडेट

BPSC 67th Exam: BPSC 67th परीक्षा के पेपर लीक (Paper leak) मामले में EOU की जांच जारी है. EOU की टीम ने मामले की छानबीन करते हुए वीर कुंवर सिंह कॉलेज स्थित परीक्षा केन्द्र पर मजिस्ट्रेट के तौर पर तैनात बड़हरा प्रखंड के बीडीओ जयवर्धन गुप्ता को हिरासत में लिया है.

टीम ने मंगलवार सुबह ही इनको पकड़ा है. वहीं आरा से हिरासत में लिए गए BDO को पटना लाया गया है. जहां टीम उनसे कड़ी पूछताछ करेगी. वीर कुंवर सिंह कॉलेज के प्रिंसिपल के साथ चार अधिकारी को पूछताछ के लिए तलब किया गया है।

336x280 MilesWeb

सरकार ने इसपर सख्त एक्शन लेने के आदेश दिए हैं

पूरे मामले की जांच के लिए इनकी तरफ से एक टीम का गठन किया गया है जिसका नेतृत्व ADG EOU नैय्यर हसनैन ख़ान करे रहे हैं. इसके साथ ही टीम एक दर्जन लोगों से पूछताछ कर रही है दरअसल BPSC 67 वीं पेपर लीक होने के बाद सरकार की खूब आलोचना हो रही है. जिसके बाद सरकार ने इसपर सख्त एक्शन लेने के आदेश दिए हैं।

बीपीएससी प्रश्नपत्र लीक जल्द होगी कार्रवाई: मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि BPSC प्रश्नपत्र लीक मामले में गड़बड़ करने वालों पर जल्द कार्रवाई होगी। हमने पदाधिकारियों को निर्देश दिया है कि जल्द-से-जल्द इसकी जांच कीजिए। इस पूरे मामले में बहुत एक्शन हो रहा है। जनता के दरबार में मुख्यमंत्री कार्यक्रम के बाद वे पत्रकारों के सवालों का जवाब दे रहे थे।

भविष्य में फिर ऐसी घटना नहीं हो, यह भी सुनिश्चित किया जाएगा

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोई भी कैसे प्रश्नपत्र लीक किया। इसे जिले को जो भेजा जाता है तो कहां से किस तरह से लीक हुआ है। इसकी पूरी जांच की जा रही है। कोई कैसे लीक किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि रविवार को जैसे ही मुझे जानकारी मिली, हमने अफसरों से बात की। भविष्य में फिर ऐसी घटना नहीं हो, यह भी सुनिश्चित किया जाएगा। बिहार साइबर क्रिमिनल का हब बनता जा रहा है? इस सवाल पर उन्होंने कहा कि यहां पर एक-एक चीज को लेकर सतर्कता है।

यह भी पढ़े   BPSC 67th PT Admit Card 2022 : यहाँ जानें कब से डाउनलोड कर सकेंगे BPSC 67वीं पीटी परीक्षा का एडमिट कार्ड

विपक्ष ने बताया भ्रष्टाचार की पराकाष्ठा :

इससे पहले बिहार विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने सरकार पर हमला बोला है और कहा है कि बिहार के करोड़ों युवाओं और अभ्यर्थियों का जीवन बर्बाद करने वाले बिहार लोक सेवा आयोग का नाम बदलकर अब बिहार लोक पेपर लीक आयोग कर देना चाहिए. तो वहीं तेजस्वी यादव की पार्टी RJD ने कहा कि परीक्षा रद्द करके सरकार खानापूर्ति कर रही है. सरकार को परीक्षा होने के पहले सतर्कता बरतनी चाहिए और पूरी इमानदारी से परीक्षा करानी चाहिए.

तो वहीं मुकेश सहनी ने कहा है कि एक तो बिहार में बेरोजगारों को रोजगार के लिए अन्य प्रदेशों में पलायन करना पड़ रहा है. दूसरी ओर ऐसी महत्वपूर्ण परीक्षा का पेपर लीक हो जाना भ्रष्टाचार की पराकाष्ठा है ।

ऐसे ही ताज़ा खबर पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज एवं ट्विटर पर फ़ॉलो जरूर करें आप हमारे व्हाट्सप्प ग्रुप भी ज्वाइन कर सकते है


whatsapp cover

Leave a Comment